Wednesday, August 17, 2022
HomeEVnewsभारत में आने वाली है नई इलेक्ट्रिक एंबेसडर 2.0 | Electric Ambassador...

भारत में आने वाली है नई इलेक्ट्रिक एंबेसडर 2.0 | Electric Ambassador 2.0

एंबेसडर कार भारत में जल्द दिखेगी अपने नए अवतार इलेक्ट्रिक एंबेसडर 2.0 में

एंबेसडर पहली बार 1957 में बिड़ला द्वारा निर्मित किया गया था। मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए यह सबसे पसंदीदा कार होने के साथ-साथ एक किफायती कार भी थी। एंबेसडर शब्द सुनकर भारतीयों के लिए बहुत सारी यादें ताजा हो जाती हैं। शानदार माइलेज के साथ, Ambassador भारतीय इतिहास में सबसे अधिक ईंधन कुशल कारों में से एक थी।

भारत में आने वाली है नई इलेक्ट्रिक एंबेसडर 2.0 :- “हिंदुस्तान मोटर्स एंबेसडर एक बड़ी वापसी करने की राह पर है” या आप इसे “रिटर्न ऑफ द लीजेंडरी” भी कह सकते है। आपको बता दें कि हिंदुस्तान मोटर्स क्लासिक, एंबेसडर 2.0 के सभी नए इलेक्ट्रॉनिक संस्करण को लाने के लिए फ्रांसीसी ऑटोमोबाइल कंपनी प्यूज़ो के साथ सहयोग कर रही है। हिंदुस्तान मोटर्स का कहना है कि इसे 2 साल में लॉन्च करने की तैयारी है।

Electric Ambassador 2.0

 

साझेदारी दोनों कंपनियों को भारतीय मोटर वाहन बाजार के विकास में भाग लेने की अनुमति देगी, आपको बता दें की यह बाजार 2025 तक 8-10 मिलियन कारों तक पहुंचने की उम्मीद है। इसके अलावा, प्यूज़ो के साथ मिलकर यह संयुक्त रूप से इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर्स का भी उत्पादन करेंगें। आपको जानकरी दे दें की इनका इलेक्ट्रिक वर्जन हाई कैलिबर का होने वाला है और यह ग्राहकों के लिए भी ज्यादा फायदेमंद साबित होगा। यह 120 करोड़ रुपये की परियोजना है और इसे हिंदुस्तान मोटर्स चेन्नई स्थित सुविधा में निर्मित किया जाएगा। नई इलेक्ट्रिक एंबेसडर 2.0 को अंतिम रूप देने से पहले कम से कम 18 महीने के लिए सभी डिजाइनों पर काम किया गया है।

अब जब ये एंबेसडर 2.0 नए अवतार में डिजाइन की गई है तो जाहिर है इसके सेफ और बनावट में काफी कुछ बदलाव हमे देखने को मिलेंगें लेकिन आपको बता दें की नई एंबेसडर 2.0 का डिजाइन कुछ एंगल से पुरानी एंबेसडर की याद दिलाता है लेकिन फिर भी इसे काफी अनूठा और मॉर्डन लुक देता है।

यह इलेक्ट्रिक कार में पूरी तरह चार्ज होने पर लगभग 190-200 किमी की ड्राइविंग रेंज देगा और इसमें 160 kWh का बैटरी पैक होगा। बैटरी को पूरी तरह चार्ज होने में 5-6 घंटे लगेंगे लेकिन वे फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट नहीं करेंगी।

यह नई एंबेसडर 2.0. 4-5.5 सेकेंड में 0-100 किमी/घंटा की रफ्तार पकड़ने में भी सक्षम होगी। एंबेसडर के अंदर एक स्क्रीन होगी जो वाहन की रेंज, बैटरी की स्थिति और कुछ अन्य डेटा यूजर को दिखाती है। इसमें एक पुनर्योजी धीमा तंत्र भी मिलेगा जो बैटरी को चार्ज करेगा और स्क्रीन सभी डेटा को ठीक से दिखाएगी।

एंबेसडर पहली बार 1957 में बिड़ला द्वारा निर्मित किया गया था। मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए यह सबसे पसंदीदा कार होने के साथ-साथ एक किफायती कार भी थी। एंबेसडर शब्द सुनकर भारतीयों के लिए बहुत सारी यादें ताजा हो जाती हैं। शानदार माइलेज के साथ, Ambassador भारतीय इतिहास में सबसे अधिक ईंधन कुशल कारों में से एक थी। यह प्रौद्योगिकी के साथ नहीं रह सका और 2013 से उत्पादन से बाहर होने के बाद भारत में एक महान स्थिति हासिल कर ली।

आपको बता दें की बहुत कम एंबेसडर कारें अभी भी टैक्सियों के रूप में उपयोग की जा रही हैं। कई ऑटोमोबाइल पत्रकारों द्वारा एंबेसडर कार को भविष्य के क्लासिक के रूप में जाना जाता है। वर्तमान में, वे एआरएआई से अनुमति प्राप्त करने का प्रयास कर रहे हैं ताकि मानक दिशानिर्देशों के अनुसार पुनरुद्धार(फिर से बनाने) की प्रक्रिया की जा सके। ऐसा कहा जाता है कि इलेक्ट्रिक वाहन नियमित (पेट्रोल डीजल) वाहनों की नियति(के लिए खराब) हैं, लेकिन यह एंबेसडर के लिए एक वरदान साबित हुआ है।क्योंकि अब यह एक नई एंबेसडर इलेक्ट्रिक 2.0 के रूप में पुनः जीवित हुई है।

देखना होगा यह मार्किट में कब तक आती है कम्पनी का कहना तो है की इसे मार्किट में आने में अभी लगभग 1 से 2 वर्षों का समय लग जाएगा। एंबेसडर कार सभी भारतीयों को दिल से पसंद है ऐसे में यही उम्मीद है की यह जल्दी से जल्दी हमारे बीच उपलब्ध होऔर हम भी पुरानी फीलिंग्स नए लुक के साथ एक दम नए अंदाज में ले सकें।

तो दोस्तों ज्यादा से ज्यादा यह जानकारी शेयर करें ताकि यह जानकारी उन सभी लोगों तक पहुँच सके जो इस कार को पसंद करते है और इसके फिर से रोड में चलने का इंतजार कर रहे है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular