Friday, December 9, 2022
Homehindilekhmercury planet in hindi: बुध ग्रह की जानकारी

mercury planet in hindi: बुध ग्रह की जानकारी

mercury planet in hindi जिसे हिंदी में बुध ग्रह के नाम से पुकारा जाता है, सूर्य के सबसे पास का गृह है। जिस वजह से Mercury Planet सौरमंडल के सभी 8 ग्रहो में से दूसरा सबसे गर्म ग्रह (Mercury Planet in Hindi) है। आपकी जानकारी के लिए बता दे -हमारे  सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र ग्रह है। 

बुध ग्रह के गठन, स्थान, गति, संरचना, जीवन के अस्तित्व के बारे में कई विज्ञानिको ने निरंतर प्रयास किए है व् इस ग्रह से जुडी हैरान कर देने वाली बहुत सी रोचक खोज को विश्व के सामने रखा. जिस से हमें Mercury Planet को समझने में बहुत मदद मिली है.

बुध ग्रह सौरमंडल के चार स्थलीय ग्रहों में से एक है, तथा यह पृथ्वी के समान एक चट्टानी पिंड है। यह 2,439.7 किमी की विषुववृत्तिय त्रिज्या वाला सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह है। बुध ग्रह सौरमंडल के बडे उपग्रहों गेनिमेड और टाइटन से भी छोटा है, हालांकि यह उनसे भारी है। 

बुध तकरीबन 70% धातु व 30% सिलिकेट पदार्थ का बना है। बुध का 5.427 ग्राम/सेमी3 का घनत्व सौरमंडल में उच्चतम के दूसरे क्रम पर है, यह पृथ्वी के 5.515 ग्राम/सेमी3 के घनत्व से मात्र थोडा सा कम है। 

यदि गुरुत्वाकर्षण संपीड़न के प्रभाव को गुणनखंडो मे बांट दिया जाए, तब 5.3 ग्राम/सेमी3 बनाम पृथ्वी के 4.4 ग्राम/सेमी3 के असंकुचित घनत्व के साथ, बुध जिस पदार्थ से बना है वह सघनतम होगा।

यह ग्रह 48 किलोमीटर (29 मील) प्रति सेकंड की रफ्तार से यह 88 दिनों में सूर्य की परिक्रमा कर लेता है, जो सबसे कम समय है। इसे अपनी धुरी पर एक चक्कर लगाने में 60 दिन लगते हैं। 

1962 तक यही सोचा जाता था कि बुध का एक दिन और वर्ष एक बराबर होते है जिससे वह अपना एक ही पक्ष सूर्य की ओर रखता है। यह उसी तरह था जिस तरह चन्द्रमा का एक ही पक्ष पृथ्वी की ओर रहता है। 

लेकिन डाप्लर सिद्धाण्त ने इसे ग़लत साबीत कर दिया। अब यह माना जाता है कि बुध के दो वर्ष में तीन दिन होते हैं। अर्थात बुध सूर्य की दो परिक्रमा में अपनी स्व्यं की तीन परिक्रमा करता है। 

शुक्र की तरह बुध का घुर्णन धीमा है। बुध और मंडल में अकेला पिंड है जिसका कक्षा / घुर्णन का अनुपात 1.1 नहीं है। ( वैसे बहुत सारे पिंडो में ऐसा कोई अनुपात ही नहीं है।)

 Mercury Planet in Hindi

1. बुध एक स्थलीय ग्रह है जिसका चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का मात्र 1% है.

2. बुध का व्यास 4,879 KM है, जो इसे सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह बनाता है और यह आकार में, पृथ्वी के चंद्रमा के बराबर है.

3. सौरमंडल में बुध और शुक्र एकमात्र ऐसे ग्रह हैं जिनका कोई प्राकृतिक उपग्रह या चंद्रमा नहीं है.

4. Mercury का नाम रोमन दूत देवताओं के नाम पर रखा गया है और इस गृह का ये नाम इसे इसकी तीव्र घूर्णन गति के कारण दिया गया था.

5. बुध को पृथ्वी के बाद दूसरा सबसे घना ग्रह (खनिज की अधिकता) कहाँ जाता है। यह मुख्य रूप से भारी धातुओं और चट्टान की विशाल सरचना से बना ग्रह है.

6. Mercury की सतह में तीन महत्वपूर्ण परतें हैं, जिनके नाम क्रमश: क्रेटर, मैदान और चट्टान है.

7. वैज्ञानिकों का कहना है कि Mercury की सतह पृथ्वी के चंद्रमा कि सतह से मिलती जुलती है.

8. बुध को सुबह या शाम का तारा भी कहा जाता है क्योंकि यह सूर्योदय से ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद आसमान में दिखाई देता है.

9. बुध सौरमंडल के उन पांच ग्रहों में से एक है जो आकाश में नग्न आंखों से देखे जा सकते है. अन्य चार हैं – शुक्र, मंगल, बृहस्पति और शनि

10.  क्या आप जानते हैं कि बुध का बाहरी आवरण केवल 400 KM मोटा है.

11. बुध ग्रह का वायुमंडल मौसम रहित है, उदाहरण के तोर पर बुध ग्रह के वायुमंडल में पृथ्वी कि तरह मौसमी घटनाए नहीं होती.

12. बुध ग्रह को सूर्य के चारों ओर एक एकल कक्षा को पूरा करने में लगभग 88 पृथ्वी दिन लगते हैं.

13. Mercury Planet की सतह पर कुछ प्राचीन लावा क्षेत्रों की उपस्थिति से पता चलता है कि अतीत में बुध पर ज्वालामुखी गतिविधि रही थी.

14. सौरमंडल में सबसे कम गोलाकार और सबसे विलक्षण कक्षा बुध ग्रह की है.

15. बुध ग्रह सतह के नीचे पृथ्वी कि तरह ही टेकटोनिक प्लेट सक्रिय है, जिसके कारण इस ग्रह पर भी भूकंप से जुडी घटनाए होती रहती है.

16. बुध ग्रह का सूर्य के चारों ओर कक्षा का आकार 57,909,227 किमी व् Orbit Velocity 170,503 किमी / घंटा है.

17. बुध ग्रह का आयतन 60,827,208,742 घन किमी और गृह का भार लगभग 330,104,000,000,000,000,000,000 किलोग्राम है.

18. बुध ग्रह का घनत्व 5.427 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर और सतह का गुरुत्वकर्षण बल 3.7 Per Second Square Meter है.

19. Mercury Planet का औसत तापमान -173 से 427 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहता है.

20. इतिहासकारों के अनुसार बुध ग्रह कि खोज  14 वीं शताब्दी ई.पू. में असीरियन खगोलविदों द्वारा कि गई थी.

 

21. बुध ग्रह का वजन पृथ्वी के वजन का मात्र 38% है.

22. बुध की सतह पर एक दिन पृथ्वी दिवस के अनुसार176 दिन का होता है व् बुध पर एक साल सिर्फ 88 दिन लंबा होता है.

23. बुध पर एक सौर दिन (ग्रह की सतह पर दोपहर से दोपहर तक का समय) 176 पृथ्वी दिनों के बराबर रहता है जबकि एक निश्चित बिंदु के संबंध में 1 रोटेशन का समय 59 पृथ्वी दिन तक रहता है.

24. बुध ग्रह की सूर्य से दूरी 46 से 70 मिलियन किमी के साथ सभी ग्रहों की उच्चतम कक्षीय विलक्षणता दुरी है.

25. बुध ग्रह कि सतह पर अजीब तरह कि झुर्रियाँ पाई जाती है. उदहारण के तोर पर बुध ग्रह पर अत्यधिक गर्मी के कारण जैसे-जैसे ग्रह का लोहा सिकुड़ना शुरू हुआ, ग्रह की सतह झुर्रीदार बनती चली गई.

26. बुध ग्रह कि इन झुर्रियो को Lobate Scarps के नाम से जाना जाता है और ये झुर्रियाँ एक मील तक ऊँची और सैकड़ों मील लंबी हो सकती हैं.

27.  हाल के वर्षों में NASA के वैज्ञानिकों ने माना ​​है कि Mercury का ठोस लोहा कोर वास्तव में पिघला हुआ हो सकता है, आपकी जानकारी के लिए बता दे आम तौर पर छोटे ग्रहों का कोर तेजी से ठंडा होता है और 1 % ही सम्भावना होती है कि लोहा कोर पिघला निकले लेकिन बुध पर सब इसके उलट है.

28. बुध कि सतह पर बड़े बड़े गड्ढे पाए गए है व् इन गड्ढो के बनने का कारण, क्षुद्रग्रहों और धूमकेतुओं का बुध के साथ टकराव सम्बंधित खगोलीय घटनाए है.

29. Mercury Planet के सबसे बड़े गड्ढे का आकार जो लगभग 1,550 किमी व्यास का है और इसे 1974 में Mariner 10 जांच द्वारा खोजा गया था.

30. बुध ग्रह पर पाए जाने वाले  250 किलोमीटर से अधिक बड़े गड्ढे को बेसिन कहा जाता है.

31. सूर्य से अपनी निकटता के कारण, बुध ग्रह पर मानव रहित अंतरिक्ष यानो को भेजना बेहद कठिन काम  है. आपकी जानकारी के लिए बता दे, Mercury Planet पर अब तक सिर्फ 2 ही अंतरिक्ष यानो को भेजा गया है.

32. बुध ग्रह पर सर्वप्रथम 1970 में पहला अंतरिक्ष यान भेजा गया था.

33. बुध ग्रह कि घूर्णन कि स्थिति में, सूर्य के सबसे निकटतम सतह का अधिकतम तापमान 427 ° C तक चला जाता है.

34. Mercury Planet का गुरुत्वकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वकर्षण का सिर्फ 38% है.

35. Mercury Planet के वायुमंडल में नाइट्रोजन, हीलियम जैसी गैसों की अधिकता है.

36. वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अवलोकन और आंकड़ों के अनुसार, बुध ग्रह आकार में लगातार सिकुड़ रहा है. उदाहरण के तोर पर बुध ग्रह के निर्माण से अब तक यह ग्रह 1.5 किमी व्यास जितना सिकुड़ चूका है.

37. Mariner 10  अंतरिक्ष यान 3 नवंबर 1973 को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल से उड़ा था.

38. पांच ग्रहों में बुध भी ऐसा ग्रह है जिसे हम नंगी आंखों से देख सकते हैं। बृहस्पति, शुक्र, शनि, मंगल को भी हम नंगी आंखों से पृथ्वी की सतह पर खड़े हो कर देख सकते हैं।
 
39. बुध ग्रह का कोई चंद्रमा (उपग्रह) नहीं है। इसका गुरुत्वाकर्षण बल भी बहुत कम है। मतलब पृथ्वी पर किसी व्यक्ति का वजन 100 किलोग्राम है तो बुध ग्रह पर उसका वजन 38 किलोग्राम हो जाएगा।
 
40. बुध का एक कमजोर चुंबकीय क्षेत्र है जिसकी ताकत पृथ्वी पर चुंबकीय क्षेत्र का लगभग 1% है।

उम्मीद है आपको यह Mercury Planet in Hindi जानकारी पसंद आई होगी। हमने आपके लिए और भी विषयों पर पोस्ट लिखी है। आप उन्हें भी जरूर पढ़ें। आपकी जानकारी के भंडार में कुछ और नई रोचक जानकारियों को जोड़ें। और दूसरों से स्मार्ट बने। 

आपने हमे इतना समय दिया आपका बहुत धन्यवाद। कृपया इस पोस्ट को शेयर जरूर करें। 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

%d bloggers like this: