Monday, August 8, 2022
HomeHealthShilajit | shilajit benefits in hindi

Shilajit | shilajit benefits in hindi

Shilajit Benefits in hindi:- शिलाजीत हिमालय और हिंदुकुश पर्वतमाला से प्राप्त किया जाने वाला एक प्राकृतिक खनिज पदार्थ है। यह पदार्थ चिपचिपा और टाइट होता है, जो पौधों व उसके हिस्सों के हजारों सालों तक विघटन (Decomposition) होने पर प्राप्त होता है। आयुर्वेद में शिलाजीत (Shilajit in Ayurveda) को शक्तिवर्धक माना गया है, जिससे संपूर्ण सेहत का विकास होता है। पुरुषों की अंदरुनी ताकत और यौन स्वास्थ्य के लिए शिलाजीत रामबाण इलाज माना गया है। शुद्ध शिलाजीत का सेवन (Shilajit Benefits) करना पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं को भी अद्वितीय फायदे पहुंचाता है। आइए जानते हैं Shilajit Benefits in hindi

शिलाजीत(Shilajit)

Shilajit एक तरह का चिपचिपा पदार्थ है। जो हिमालय की चट्टानों में पाया जाता है। इसे ख़ास तौर पर आयुर्वेद चिकित्सा में प्रयोग किया जाता है। शिलाजीत मुख्य रूप से जम्मू – कश्मीर के गिलगिट क्षेत्र, तिब्बत, और हिमालयी एरिया में पाए जाने वाले कुछ विशेस पहाड़ी चट्टानें में पाई जाती है। कुछ स्थानो में के द्वारा शिलाजीत को चट्टान का पसीना भी कहते है।

पौधों और उसके हिस्से का जब हजारों साल तक विघटन होता है तब शिलाजीत विकसित होता है। मर्दाना ताकत को बढ़ाने वाला यह पदार्थ दिमाग को भी तेज करता है। शिलाजीत में ८५ मिनरल्स पाए जाते है।

शिलाजीत चिपचिपी होती है और इसका रंग काला और भूरा होता है। स्वाद में यह कड़वा और कसैला होता है। इस पदार्थ को गर्म व वीर्यवर्धक माना जाता है। जब यह सुख जाता है तो इसमें से गौ मूत्र जैसी गंध आती है।

Shilajit benefits in hindi

इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह एक पौरुष शक्तिवर्धक औषधि भी है, लेकिन यह अन्य रोगों की भी महान औषधि है। शिलाजीत के सेवन से निम्नलिखित दिलचस्प फायदे मिलते हैं।

shilajit ke fayde

1. पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन में सुधार

पुरुषों के लिए टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन काफी जरूरी होता है। यह हॉर्मोन पुरुषों के यौन स्वास्थ्य को सुधारने और नपुंसकता जैसी समस्या को दूर करने में काफी महत्व रखता है। इसकी कमी के कारण पुरुषों को बालों का झड़ना, मसल्स कमजोर होना, बॉडी फैट बढ़ना व थकान जैसी समस्या हो सकती है। Pubmed.gov पर प्रकाशित एक क्लिनिकल स्टडी में शामिल 45 से 55 साल की उम्र के पुरुषों में शुद्ध शिलाजीत का रोजाना दो बार 250 मिलीग्राम सेवन करने पर टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन में बढ़ोतरी देखी गई। शिलाजीत का इस तरह सेवन करके मर्दों की ताकत बढ़ाई जा सकती है। हालांकि, किसी भी चीज का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर या आयुर्वेदिक एक्सपर्ट की मदद जरूर लें।

2. शिलाजीत के फायदे- एनीमिया की समस्या
खून की कमी को एनीमिया नमक रोग कहते है। ज्यादातर महिलाओं में आयरन की कमी के कारण एनीमिया की समस्या उत्पन हो जाती है। शिलाजीत का सेवन करने से शरीर में रक्त बनने की प्रक्रिया को मदद मिलती है और एनर्जी आती है। क्योंकि इसमें ह्यूमिक एसिड और आयरन पाया जाता है।

 

3. पेशाब संबंधित समस्याएं

शिलाजीत का सेवन पेशाब संबंधित समस्याओं से भी राहत प्रदान कर सकता है। यह गुर्दों व मूत्राशय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। इसके सेवन से पेशाब में जलन और पथरी जैसी समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इससे किडनी की कार्यक्षमता बढ़ती है।

4. जोड़ों के दर्द से राहत

अगर आपके जोड़ों में दर्द रहता है, तो शिलाजीत का इस्तेमाल फायदेमंद साबित हो सकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं। जो शरीर में टिश्यू की सूजन को कम करके जोड़ों के असहनीय दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। इसके साथ ही इसके इस्तेमाल से बढ़ती उम्र के लक्षणों व कोशिकाओं के क्षतिग्रस्त होने की प्रक्रिया को भी कम किया जा सकता है।

5. दिमाग को तेज रखता है

शिलाजीत का सेवन हमारे मस्तिष्क के लिए लाभकारी होता है। यह हमारी मेमोरी को तेज करता है। ऐसा मानना है की मस्तिष्क में ताऊ प्रोटीन के असंतुलन उत्पादन को शिलाजीत में पाए जाने वाले फुलविक एसिड संतुलित कर सकता है।

Shilajit uses | शिलाजीत का उपयोग कैसे करें |

यह पदार्थ कैप्सूल, पाउडर और तरल दोनों रूपों में उपलब्ध होता है। इसे बताये गये निर्देशों के आधार पर ही ग्रहण करे। तरल रूप में एक मटर के दाने जितना हिस्सा तरल में घोल कर निर्देशों के अनुसार पियें। शिलाजीत पाउडर दिन में दो बार दूध के साथ पी सकते हैं।

शिलाजीत कैप्सूल सेवन करने में आसान होता है। इसके कड़वे स्वाद की वजह से इसे निगल सकते हैं। पानी या दूध के साथ इसे खा ले। आप क्रीम और टॉनिक के रूप में भी इसका उपयोग कर सकते है। त्वचा की बेहतर रंगत में यह लाभकारी होता है।

शिलाजीत चूर्ण श्वसन तंत्र में आने वाली रुकावट को दूर करता है। इस चूर्ण में कायाकल्प और स्वास्थ्यवर्धक जैसे कई प्रकार के गुण होते हैं। शिलाजीत के चूर्ण को कच्चे, गुनगुने दूध, घी या तिल के तेल, बिना पाश्चुरीकृत शहद के साथ ले सकते है। इस तरह से इसके दुगने फायदे मिलेंगे।

वयस्क 150 मिलीग्राम शिलाजीत का सेवन दिन में एक या दो बार कर सकते है। इसका सेवन करने के पहले अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करे और उनसे सही मात्रा निर्धारित करवा कर इसे ग्रहण करे।

शिलाजीत कब लें |

सुबह खाली पेट इसका सेवन करना सबसे बेहतरीन होता है। शिलाजीत की एक सही खुराक आप ले सकते है। इसमें ऊर्जा की वृद्धि करने वाले गुण होते हैं तो रात में इसका सेवन करने से बचना चाहिए। यह नींद को बिगाड़ने में सहायक होता है। रात में शिलाजीत का सेवन करने के बारे में चिकित्सक से जरूर पूछ ले।

शिलाजीत लेने से पहले कुछ बातें जो ध्यान में रखना आवश्यक है। जिसके बाद ही आपको इसकी खुराक निश्चित करना चाहिए जैसे सामान्य स्वास्थ्य, शरीर का आकार, मेटाबोलिज्म, बॉडी मास इंडेक्स, खाद्य और अन्य जीवन शैली।

शिलाजीत साइड इफेक्ट |

अगर डॉक्टर को दिखाए बिना ज्यादा मात्रा में या गलत तरह से इसका सेवन किया जाये तो इसके दुष्प्रभाव भी हो सकते है जिनमें शामिल है।

  • दिल की धड़कन अनियमित हो जाती है।
  • गलत तरह से इसका इस्तेमाल करने पर सिरदर्द होने लगता है।
  • पैरों और हथेलियों में ठंडक होने की समस्या।
  • इससे त्वचा पर चकते या जलन जैसी परेशानी भी हो सकती है।
  • उचित मात्रा से ज्यादा इस्तेमाल करने पर कमजोरी आ सकती है।
  • आप थकान भी महसूस कर सकते है।

शिलाजीत का सेवन करने के बाद इनमें से किसी भी लक्षण को आप महसूस कर रहे हैं या आपको बैचेनी हो रही है तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करे।

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular