सिंधु घाटी सभ्यता सम्पूर्ण जानकारी | Sindhu ghati sabhyata in hindi

सिंधु घाटी सभ्यता – दोस्तों आज हम आपको सिंधु घाटी सभ्यता से जुडी जनकरी देने जा रहे है। हमने जो सिंधु घाटी सभ्यता के Notes तैयार किए है उन्ही को इस पोस्ट में लिखा है। sindhu ghati sabhyata in hindi में आपको सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत कब हुई इसके बारे में बताएंगे सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत किसने की क्यों की एवं सिंधु घाटी सभ्यता में कौन कौन से नगरों का निर्माण किया गया सिंधु घाटी सभ्यता ने नगरी की क्या क्या वशेषताए थी उसके बारे में बात करेंगे।

अगर आपको सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में सम्पूर्ण जानकारी चाहिए तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़िए हम आशा करते हैं की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगेगी। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप अपने दोस्तों तक यह पोस्ट को जरूर भेजें।

आपको बता दें की सिंधु घाटी सभ्यता को इंग्लिश में इंडस वेळी सिविलाइजेशन{ ‘Indus Valley Civilization’} भी कहा जाता है। तो चलिए सबसे पहले जानते है कि सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत कैसे हुई। sindhu ghati sabhyata in hindi

सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत, उत्पत्ति

सिन्धु घाटी सभ्यता की शुरुआत प्राचीन भारत के उत्तरी भाग में सिन्धु और यमुना नदी के घाटी क्षेत्र में लगभग 2600 ई.पू. से 1900 हुई ई.पू. हुई थी। यह एक प्राचीन सभ्यता थी जिसका महत्वपूर्ण संसाधन सिन्धु और यमुना नदी के घाटी क्षेत्र में स्थित था। यह सभ्यता एक उन्नत सभ्यता थी जिसमें लोग नगरों में निवास करते थे, उत्पादन और व्यापार में निपुण थे, और कई कार्यशालाओं में कुशलता दिखाते थे।

sindhu ghati sabhyata in hindi
sindhu ghati sabhyata in hindi

सिन्धु घाटी सभ्यता का पता चलने का महत्वपूर्ण स्रोत है मोहनजोदड़ो, हरप्पा, और लोथल जैसे प्रमुख नगरों के खंडहर। इन खंडहरों से मिले विभिन्न सामग्रीयां, रूपांतरण उपकरण, मूर्तियां, और लेखों के अवशेषों से पता चलता है कि इस सभ्यता की स्थापना कई हजार वर्ष पहले हुई थी।

हालांकि, सिन्धु घाटी सभ्यता के बारे में कई महत्वपूर्ण अज्ञात तत्व हैं और इसकी विस्तृत जानकारी अभी तक विविध स्थानों पर अभिलेखों और अवधारणाओं के अध्ययन के द्वारा मिली है।

इसलिए, नवीनतम तारीखों के बारे में अद्यतित जानकारी के लिए, मैं सलाह देता हूं कि आप आधिकारिक इतिहास और एर्कियोलॉजी विशेषज्ञों के शोधों और प्रकाशनों का संदर्भ लें।

सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल – प्रमुख नगर 

सिन्धु घाटी सभ्यता में पाए गए कुछ प्रमुख नगरों की सूची के बारे में निम्नलिखित रूप में दी जा सकती है:-

* मोहनजोदड़ो:- मोहनजोदड़ो सिन्धु नदी के किनारे स्थित एक महत्वपूर्ण नगर था। इसे सभ्यता का सबसे प्रमुख नगर माना जाता है। मोहनजोदड़ो में बड़े-बड़े भवनों, नगरीय संरचनाओं, सामाजिक समूहों के आवासों, उत्पादन सुविधाओं, जल स्रोतों, गहने, मूर्तियाँ और लेखों के अवशेष मिले हैं।

* हड़प्पा:- हड़प्पा भी सिन्धु नदी के किनारे स्थित एक प्रमुख नगर था। यह नगर सभ्यता का महत्वपूर्ण केंद्र था और व्यापार, शिल्प, कृषि और सामाजिक जीवन का महत्वपूर्ण केंद्र था।

हड़प्पा में घर, गलियां, भंडारण सुविधाएँ, सामाजिक संगठन के प्रतीक और स्तूप जैसी महत्वपूर्ण विशेषताएं पाई जाती थीं।

* लोथल:- लोथल सभ्यता का एक प्रमुख नगर था, जो गुजरात के राजकोट जिले में स्थित था। यह नगर समुद्री व्यापार का महत्वपूर्ण केंद्र था और जहां नौकायानों का निर्माण और व्यापार की गतिविधियाँ संचालित होती थीं।

लोथल में नौकायान विनिर्माण और संरचना, वाणिज्यिक संरचनाएं, नदी के किनारे बसे घाट और मुद्राएँ प्रमुख विशेषताएं थीं

* कालीबंगा:-  कालीबंगा राजस्थान राज्य के हनुमानगढ़ जिले में स्थित है। यह भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे पुराने नगरों में से एक है।

कालीबंगा में शौचालय, नदी के किनारे गोदाम, भंडारण कक्ष और घरों के अवशेष मिले हैं। यहां से भारतीय उपमहाद्वीप की सभ्यता और निवासियों के जीवनशैली के बारे में बहुत कुछ ज्ञात हुआ है।

* धोलावीरा:- धोलावीरा गुजरात राज्य के कच्छ जिले में स्थित है और यह सिंधु घाटी सभ्यता का सबसे बड़ा नगर है। इसे “महेंजोदड़ो” भी कहा जाता है।

धोलावीरा में महान निर्माण कार्य, गलियारों, सड़कों, सड़क-पुलों और विशाल बांधों की मौजूदगी देखी जाती है।

यहां के घरों में बर्तन, सिक्के, गहने और अन्य वस्त्र और सामग्री के अवशेष मिले हैं, जो इस सभ्यता की आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था को समझने में मदद करते हैं।

सिंधु घाटी सभ्यता की खोज

सिंधु घाटी सभ्यता की खोज शुरुआत – सिंधु घाटी सभ्यता की खोज 1920 ईसा में राय बहादुर एवं दया राम साहनी ने की मोहनजोदड़ो के पास सिन्धु नदी के किनारे स्थित गांव में हुई। इसके बाद से ही इस सभ्यता के बारे में धीरे-धीरे अध्ययन और खोज हुई है।

सिंधु घाटी सभ्यता की खोज शुरुआत
सिंधु घाटी सभ्यता की खोज शुरुआत

सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख केंद्र मोहनजोदड़ो और हड़प्पा शहर थे। इन शहरों के आवासीय इलाकों में आपूर्ति के लिए नदियों के किनारे स्थापित किए गए थे। यहां पर्याप्त संचार साधनों, सड़कों, गोदामों और नदी घाटों के साथ विशाल निर्माण कार्य देखे जाते हैं, जिनका मतलब था कि इस सभ्यता में व्यापार, वाणिज्यिक गतिविधियों और नदी-समुद्र संचार का व्यापारिक महत्व था।

सिंधु घाटी सभ्यता के निवासी अपने घरों को बनाने के लिए ईंट और लकड़ी का प्रयोग करते थे। इन नगरों में विशाल निर्माण कार्य देखने को मिलते हैं, जिनमें सार्वजनिक और निजी स्थानों के रूप में विभाजित किए गए थे। इनके पास सामाजिक संस्थाओं, धार्मिक स्थलों, विपणन स्थलों, जीवन्त प्राणियों के लिए अलग-अलग क्षेत्र और मृत पुरुषों के लिए समाधियों का निर्माण करने का प्रबंध था।

सिंधु घाटी सभ्यता में शिलालेखों, सीलों और मोहरों पर अक्षरों की प्रयोगशैली देखी जाती है। हालांकि, अभी तक इन अक्षरों का ठीक-ठीक मतलब समझना बाकी है और इस विषय में विभिन्न संदेह हैं।

इस प्रकार, सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत से लेकर अवधि के दौरान इसमें विकास के लिए विभिन्न पहलुओं ने एक साथ समाहित हुए। यह सभ्यता वाणिज्य, संचार, कला, साहित्य और सामाजिक संस्थाओं के क्षेत्र में अद्वितीय योगदान देने के लिए विख्यात है।

सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख धर्म 

सिन्धु घाटी सभ्यता के विषय में बात करते हुए, यह महत्वपूर्ण होता है कि इस सभ्यता के धार्मिक अभिप्रेतांत के बारे में जानें। हालांकि, इसके बारे में निश्चित जानकारी हासिल करना कठिन है क्योंकि सिन्धु घाटी सभ्यता की लिखित भाषा अब तक अनसंख्य चित्रों और स्थानीय संकेतों के अलावा प्राप्त नहीं हुई है।

सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख धर्म 
सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख धर्म 

अगर हम वर्तमान विद्यमान को देखें तो सिन्धु घाटी सभ्यता में विभिन्न धार्मिक प्रथाएं व्यक्त होती थीं। यहां प्रधानतः तीन मुख्य धर्म प्रणालियाँ संभव हैं:

* पशु पूजा:- सिन्धु घाटी सभ्यता में पशु पूजा की प्रथा अत्यंत महत्वपूर्ण थी। इसका प्रमुख उदाहरण मोहनजोदड़ो और हड़प्पा में मिले गए पशु मूर्तियों की हैं। यह सुझाता है कि पशु पूजा और पशुओं की महत्वाकांक्षा उस समय की सभ्यता में मूल्यांकन की गई थी।

* शक्ति पूजा:- देवी की पूजा और शक्ति की उपासना भी सिन्धु घाटी सभ्यता में प्रचलित थी। इसका प्रमाण मोहनजोदड़ो और लोथल में मिले गए मूर्तियों में देवी और मातृ देवताओं की मौजूदगी है।

* प्राणीय या नरमात्मा की पूजा:- सिन्धु घाटी सभ्यता में मृतकों की श्रद्धा और उनकी मौजूदगी का आदर्शवाद भी देखा जा सकता है। मृतकों के अंदर आत्मा का अस्तित्व माना जाता था और उसे पूजा जाता था।

यहां दिए गए तीनों धार्मिक प्रणालियाँ मात्र संभावित हैं और इनके आलावा भी और धार्मिक परंपराएं मौजूद थीं हो सकती हैं। इन सभी धर्म प्रथाओं ने सिन्धु घाटी सभ्यता की धार्मिक और सामाजिक संरचना को प्रभावित किया हो सकता है।

सिंधु घाटी सभ्यता की विशेषताएं

इस सभ्यता की विशेषताओं में निम्नलिखित मुख्य बातें शामिल हैं:

नगरीय सभ्यता:- सिंधु घाटी सभ्यता नगरीय जीवन पर आधारित थी, जिसमें नगरों के पास वाणिज्यिक और औद्योगिक क्षेत्र, सार्वजनिक स्नानागार, सार्वजनिक मंदिर, ग्रामीण क्षेत्र आदि शामिल थे। इन नगरों की योजना और सज्जा बहुत सुंदर थी और इसमें सड़कों, गलियों, नालों और नालियों का पूर्णतया व्यवस्थित नेटवर्क था।

सामाजिक व्यवस्था:- सिंधु घाटी सभ्यता में सामाजिक व्यवस्था काफी विकसित थी। सभ्यता के लोग वर्गीय व्यवस्था के आधार पर जीवन यापन करते थे, जिसमें व्यापारियों, कृषि कार्यकर्ताओं, शिल्पकारों, शिक्षकों और पुरोहितों की अलग-अलग वर्गेबद्धता थी। इसके साथ ही, महिलाओं का समान सामाजिक स्थान था और महिलाओं की उपस्थिति आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों में महत्वपूर्ण थी।

सिंधु घाटी सभ्यता व्यापार और वाणिज्य
सिंधु घाटी सभ्यता व्यापार और वाणिज्य

व्यापार और वाणिज्य:- सिंधु घाटी सभ्यता व्यापार और वाणिज्य में महान कुशलता रखती थी। उदाहरण के लिए, इस सभ्यता से संबंधित नगरों में शीशे, मृदा वस्त्र, मूर्तियाँ, आभूषण, सोने के आभूषण आदि बनाने की उद्योगिता देखी गई है। व्यापार की दृष्टि से, यह सभ्यता स्वामित्व और व्यापारिक संपर्कों के माध्यम से बाहरी देशों के साथ व्यापार करती थी।

सांस्कृतिक उत्थान:- सिंधु घाटी सभ्यता में कला, संगीत, नृत्य और धार्मिक प्रथाओं का विकास हुआ। मोहेंजोदड़ो और हड़प्पा नगरों में पाये गए शिलालेखों, मूर्तियों, आभूषणों, शंखों, डिजाइन और नक्काशी के प्रमुख उदाहरण हैं। सिंधु घाटी सभ्यता में ब्राह्मणों और पुरोहितों की महत्वपूर्ण भूमिका थी और वे विभिन्न धार्मिक आयोजनों के लिए जिम्मेदार थे।

स्वास्थ्य और स्वच्छता:- सिंधु घाटी सभ्यता में स्वास्थ्य और स्वच्छता का महत्वपूर्ण स्थान था। नगरों में सार्वजनिक स्नानागार, जल-सरोवर और साफ-सुथरी गलियां मौजूद थीं। सिंधु घाटी सभ्यता के लोग स्वच्छ जीवनशैली अपनाते थे और इसका पालन करने के लिए नगरों में सार्वजनिक स्नानागार और संग्रहालय आदि थे।

सिंधु घाटी सभ्यता में स्वास्थ्य और स्वच्छता
सिंधु घाटी सभ्यता में स्वास्थ्य और स्वच्छता

ये थीं कुछ मुख्य विशेषताएँ जो सिंधु घाटी सभ्यता को विशेष बनाती हैं। इस सभ्यता का अध्ययन हमें विश्व की अत्यंत प्राचीन सभ्यताओं के बारे में जानने में मदद करता है और हमें इसकी महत्वपूर्णता को समझने में मदद करता है।

सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख अवशेष

सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेषों की मदद से हमें इस प्राचीन सभ्यता की जीवनशैली, निर्माणकला, धार्मिक प्रथाएं और सामाजिक व्यवस्था के बारे में ज्यादा जानकारी मिलती है। निम्नलिखित हैं कुछ प्रमुख सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष:

मोहेंजोदड़ो:- मोहेंजोदड़ो सिंधु घाटी सभ्यता का सबसे प्रमुख नगर है। यह स्थल पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में स्थित है। मोहेंजोदड़ो से मिले गए अवशेष गोंद के उत्पादों, सोने के आभूषणों, शामिल नगरीय आवासों, गाड़ियों और आपूर्ति औजारों से अपनी समृद्ध वाणिज्यिक गतिविधियों की पुष्टि करते हैं।

हड़प्पा:- हड़प्पा भी सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख नगर था और यह पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में स्थित था। इस नगर से मिले गए अवशेष शिलालेख, स्थानीय संगठनों के नक्काशे, बाल से बनी खिलौने, पट्टिकाएं, व्यापारी औजार और शानदार मोहरें सभ्यता की कौशलता को दर्शाते हैं।

लोथल:- लोथल भारत के गुजरात प्रान्त में स्थित है और सिंधु घाटी सभ्यता का महत्वपूर्ण नगरीय केंद्र था। यहां से मिले गए अवशेषों में बंगलियाँ, बनगधों की सिलवटें, शंख, लोहे के उपकरण, नाविकता सामग्री, गहने और रंगीन मोहरें हैं।

ये थे सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख अवशेष जिनसे हमें इस प्राचीन सभ्यता के बारे में विस्तृत ज्ञान प्राप्त होता है। ये अवशेष हमें इस सभ्यता की उच्चतमता, कला, व्यापार, धार्मिकता और औद्योगिक गतिविधियों के प्रमाण प्रदान करते हैं

सिंधु घाटी सभ्यता की नगर योजना का वर्णन करें

सिंधु घाटी सभ्यता की नगर योजना – दोस्तों अब हम सिंधु घाटी सभ्यता की नगर नियोजन प्रणाली के बारे में बात करेंगे यहाँ के लोग किस प्रकार अपना जीवन यापन करते थे सिंधु घडी सभ्य में क्या क्या सुविधाएँ हुआ करती थी इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको सिंधु घाटी सभ्यता की नगर योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे आपको सिंधु सिन्धु घाटी सभ्यता की नगर योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी चाहिए तो इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़िए।

सिंधु सिन्धु घाटी सभ्यता की नगर योजना भारतीय पुरातत्वविदों द्वारा प्रतिष्ठित होने वाली एक अद्वितीय नगर योजना है। यह योजना सिन्धु घाटी सभ्यता से संबंधित महत्वपूर्ण खंडों में पायी जाती है, जो पाकिस्तान, भारत, और अफगानिस्तान में स्थित मिला है।

*सिंधु घाटी सभ्यता की लेखन प्रणाली में पिक्टोग्राफी प्रणाली प्रचलित थी। मतलब वह लेखन के लिए चित्र का उपयोग किया करते थे

*सिंधु घाटी सभ्यता एक नगरीय सभ्यता थी एवं यह पहली नगरीय सभ्यता भी थी। यहाँ के नगर सुन्योजित एवं घनी आवादी वाले हुआ करते थे यह भी माना जाता है की इतिहास हमेशा दोहराया जाता है मतलब आज के समय में हम भी नगरीय सभ्यता में जी रहे हैं ।

 अगर हम सिंधु घाटी सभ्यता की नगरों की बात करे तो सबसे पहले आता है

1 सिटाडेल – मतलब यहाँ नगर या समाज या घर ऊँचे एवं नीचे मतलब अपर पार्ट एवं लोवर पार्ट में स्थित हुआ करते थे मतलब उचाई पर स्थित नगर पे बड़े लोग मतलब शक्तिशाली वर्ग रहा करते थे जिन्हे अरिस्टोक्रेस्ट कहा जाता था एवं यहाँ के घर एक से अधिक मंजिलो में बने हुए थे उस समय कोई राजा महराजा नहीं हुआ करते थे परन्तु सत्ता व्यपारियो के हाथ में हुआ करती थी।

2 जालीनुमा संरचना – मतलब यहाँ पर मार्ग 90 डिग्री के कोण में एक दूसरे को कटते थे और जो माकन थे वो भी सड़कों के किनारे 90 डिग्री के कोण पर बने होते थे इसी आधार पे हम सिंधु घाटी सभ्य की नगर नोजना को ग्रिड पैटर्न या जालीनुमा कह सकते हैं।

3 अपवाह तंत्र या जलनिकासी व्यवस्था – सिंधु घाटी सभ्यता में हर घरो में नालिया हुआ करती थी एवं यहाँ नालिया बड़ी नाली से मिलती थी एवं बड़ी नाली एक शोक पिट में जाकर मिलती थी और ये सारी नालियां ढकी हुआ करती थी। इसका मतलब यह है की सिंधु घाटी सभ्य के लोग सफाई पर विशेष अहमियत देते थे।

4 सिंधु घाटी सभ्यता में पक्की ईटो को उपयोग किया जाता था। यहाँ घरो के खिड़की एवं दरवाजों का उपयोग किया जाता था। यहाँ पे 80 फ़ीट लम्बा एवं 80 फ़ीट चौड़ा एक हाल मिला है जो बैठक आयोजन के लिए या मंदिर के लिए हाल हो सकता है।

5 विशाल स्नानागार – सिंधु घाटी सभ्यता में विशाल स्नानागार हुआ करते थे। यहाँ लोग नहाने के लिए विशाल स्नानागार का उपयोग करते थे स्नानागार पे सीढ़ियां भी हुआ करते थे स्नानागार के पास एक कुआं हुआ करता था। स्नानागर से पानी बहार निकलने के लिए एक होल भी हुआ करता था एवं स्नानागार पक्की ईंटो से बनाया गया जाता था।

6 विशाल अन्नागार – सिंधु घाटी सभ्यता में अन्य को स्टोर करने के लिए विशाल अन्नागार का उपयोग किया जाता था। मतलब यहाँ के लोग कृषि पर विशेष ध्यान दिए करते थे एवं वहाँ की मिटटी उपजाऊ थी।

7 – प्रत्येक घरों में स्नानघर हुआ करते थे।

8- सिंधु घाटी सभ्यता में बाजार की भी व्यवस्था हुआ करती थी। सिंधु घाटी सभ्यता के लोग शहरी ज़िंदगी जीया करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता की नगर योजना का मुख्य उद्देश्य नगरों की सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक व्यवस्था की गहराई में समझना है, जो सिन्धु घाटी सभ्यता के नगरों के लोगों के जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा था। इस नगर योजना के माध्यम से हमें सिन्धु घाटी सभ्यता की उन्नति और विकास के बारे में अधिक जानकारी मिलती है, जो हमें इस महत्वपूर्ण पुरातत्विक सभ्यता को समझने में मदद करती है।

सिंधु घाटी सभ्यता का आर्थिक जीवन

सिंधु घाटी सभ्यता का आर्थिक जीवन – दोस्तों आज हम आपको सिंधु घाटी सभ्यता के लोगो के आर्थिक जीवशैली के बारे में बात करेंगे। अगर आपको हमारी सिंधु घाटी सभ्यता की सम्पूर्ण जानकरी चाहिए तो आप इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़िए।

सिंधु घाटी सभ्यता का आर्थिक जीवन
सिंधु घाटी सभ्यता का आर्थिक जीवन

सिन्धु घाटी सभ्यता का अर्थिक जीवन भारतीय प्रागैतिहासिक काल में महत्वपूर्ण था। यह एक प्रमुख अनुसंधान क्षेत्र था जहां व्यापार, खेती और अन्य आय उपार्जन के लिए व्यवस्थापन की गई थी। इस सभ्यता में व्यापार और वाणिज्यिक गतिविधियों का विकास हुआ था, जिसने लोगों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाया। सिंधु घाटी सभ्यता के आर्थिक जीवन की बात करे तो यह तीन चीजों पर निर्भर था।

1 कृषि

2 पशुपालन

3 शिल्प या उद्योग

हम सबसे पहले कृषि की बात करते हैं

1 कृषि:- सिंधु घाटी सभ्य के लोग नवंबर दिसम्बर में फसल बोते थे एवं मार्च अप्रैल में फसल को कटते थे।

  • हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो में विशला नगर के अवशेष मिले हैं। मतलब कृषि का स्तर अच्छा हुआ करता था अनाज पर्याप्त मात्रा में हुआ करता था आनाज को स्टोर करने के लिए इन विशाल अन्नागारो का उपयोग किया जाता था।
  • मोहनजोदड़ो एवं बनवाली से मिट्टी का हल मिला।
  • बनवाली में उत्तम किस्म का जौ मिला
  • कालीबंगा जो राजस्थान के हनुमानगढ़ में पढता हैं इस स्थान पर जुटे हुए खेत मिले परन्तु खेत में कटती हुई जुताई की हल रेखाएं मिली। इनकी इस क्रॉस जुताई से 2 फसल होने के साक्ष मिले।
  •  सिंधु घाटी सभ्यता में कपास के भी साक्ष मिले यह मन जाता है की विश्व में सबसे पहले कपास की खेती सिंधु घाटी सभ्यता में की गई थी। यूनानियों ने कपास को सिंधण नाम दिया क्योकि यह सिंधु नदी के किनारे हुआ करती थी।
  • सिंधु घाटी सभ्यता में लोथल नमक नगर से चावल की खेती के साक्छ मिले एवं रंगपुर में चावल की भूसी के साक्ष मिले है
  •  इसके साथ ही यहाँ पर तरबूज के बीच के साक्ष मिले मतलब यहाँ तरबूज की भी खेती हुआ करती थी।

2 पशुपालन:- यहाँ गाय, भैंस, बैल, ऊंट, कुत्ता आदि के साक्ष मिले हैं।

  • यहाँ की मोहरो पर कूबड़ वाले सांड के साक्ष मिले हैं कुबड़ वाला सांड इनका पूजनीय पशु हुआ करता था।
  • रोपड़ नमक नगर में मनुष्य के साथ कुत्ते को दफ़नाने का साक्ष मिला है।
  • मोहनजोदड़ो से हाथी का कपाल खंड मिला है।

3. शिल्प उद्योग:- सिन्धु घाटी सभ्यता में शिल्प उद्योग विकसित थे। यहां पाये गए उत्पादों में मोहरे, सींग, पत्थर के सामग्री से बने आसाने, इमारतों के भट्ठे, और मिट्टी के बर्तन शामिल थे। इसके अलावा, सोने के आभूषण, तांबे और पीतल के उत्पाद भी निर्मित किए जाते थे।

4. शिल्प कला:- सिन्धु घाटी सभ्यता में शिल्प कला भी प्रमुख थी। लोग अद्वितीय और सुंदर आभूषण, मूर्तियाँ, सील, मोहरे, और अन्य कलात्मक उत्पाद बनाते थे। ये उत्पाद देशीनीकृत थे और क्षेत्रीय व्यापार के माध्यम से व्यापारिक रूप से विक्रय किए जाते थे।

5. चरकों और श्रमिकों का उद्यम:- सिन्धु घाटी सभ्यता में चरकों और श्रमिकों का उद्यम भी विकसित था। ये लोग सूती धागों, बुनाई के उत्पादों, लथपत्तियों, और अन्य कपड़ों का निर्माण करते थे। इन उत्पादों की मांग और उनका व्यापार महत्वपूर्ण था।

6. खनिज उद्योग:- सिन्धु घाटी सभ्यता के कुछ स्थानों में खनिज उद्योग भी विकसित था। यहां पाये जाने वाले खनिज उत्पाद शामिल हैं मसाला पत्थर, लोहा, रेत, और सोना। इन खनिजों के उत्पादों का उपयोग घरेलू और व्यापारिक उद्देश्यों के लिए होता था

सिन्धु घाटी सभ्यता में उद्योग व्यापार, शिल्प, कला, चरकों और श्रमिकों के उद्यम, और खनिज उद्योगों के माध्यम से लोगों का आर्थिक विकास हुआ और सभ्यता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

सिंधु घाटी सभ्यता MCQ

सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़े कुछ प्रश्न और उत्तर

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता कब विकसित हुई ?
उत्तर:- सिंधु घाटी सभ्यता 2500 ईसापूर्व – 1750 ईसापूर्व विकसित हुई।

प्रश्न:- हड़प्पा सभ्यता की खोज कब हुई ?
उत्तर:- 1921 ईस्वी में हड़प्पा सभ्यता की खोज हुई।

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता का ज्ञान कैसे मिला ?
उत्तर:- पुरातात्विक उत्खनन से।

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता के लोगो ने नगरों तथा घरो के विन्यास के लिए कौन सी पद्धति अपने थी 
उत्तर:- ग्रीड पद्धति।

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता की लिपि क्या थे?
उत्तर:- चित्रात्मक लिपि।

प्रश्न:- सिंधु अर्थव्यवस्था की ताकत आधारित थी ?
उत्तर:- कृषि पर

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता के लोग किस्मे विश्वास करते थे ?
उत्तर:- मातृशक्ति पर

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता के लोगो की मुद्रा में किस देवता की आकृति चित्रित थी ?
उत्तर:- पशुपति की

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता में शहरो की गालियां कैसी थीं
उत्तर:- चौड़ी और सीधी

प्रश्न:- किस सिंधुकालीन स्थल से एक ईट पर बिल्ली का पीछा करते हुए कुत्ते के पंजों के निशान मिले हैं ?
उत्तर:- चहुन्दरो से

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता में किन शहरो से युगल शवाधान /द्विशव संस्कार का प्रमाद मिला है ?
उत्तर:- लोथल से

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता में घोड़े के अवशेष कान्हा मिले हैं ?
उत्तर:- सुरकोटदा में

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता में सबसे पहले कौन सा स्थल खोजा गया था।
उत्तर:- हड़प्पा

प्रश्न:- हड़प्पा सभ्यता की खोज कब हुई ?
उत्तर:- 1921 ईस्वी में

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता में विशाल स्नानागार किस स्थल पर पाया गया है ?
उत्तर:- मोहनजोदड़ो में

प्रश्न:- मोहनजोदड़ो कहाँ स्थित है ?
उत्तर:- पाकिस्तान के सिंध प्रान्त के लरकाना जिले में।

प्रश्न:- हड़प्पा सभ्यता के अंतर्गत हल से जोते गए खेत के साक्ष कहा मिले हैं ?
उत्तर:- कालीबंगा से

प्रश्न:- हड़प्पा सभ्यता के लोगो को किसकी जानकारी नहीं थी ?
उत्तर:- लोहे की

प्रश्न:- सिंधु सभ्यता के घर किस्से बनाये जाते थे
उत्तर:- पक्की ईटो से

प्रश्न:- सिंधु घाटी सभ्यता की मुद्रा में किस देवता के समतुल्य चित्रांकन मिलता है ?
उत्तर:- भगवान शिव का

सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़े इस पोस्ट में अपने सिंधु घाटी सभ्यता की कई सारी जानकारियाँ प्राप्त की जिनसे शामिल है सिंधु घाटी सभ्यता की शुरुआत, उत्पत्ति, सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल – प्रमुख नगर, सिंधु घाटी सभ्यता की खोज, सिंधु घाटी सभ्यता का प्रमुख धर्म, सिंधु घाटी सभ्यता की विशेषताएं, सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख अवशेष और भी बहुत कुछ अपने जाना।

हमने हमारे सिंधु घाटी सभ्यता नोट्स से सभी जरूरी चीजें आपके सामने रखी मुझे उम्मीद है सिंधु घाटी सभ्यता से जुडी यह संपूर्ण जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित जरूर होगी।

आपसे निवेदन है कि इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें शेयर बटन नीचे ही दिया गया गया है। 

यह भी पढ़ें और अपनी नॉलेज बढ़ाएं

हमरी इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आपके मोबाइल में अभी लेफ्ट साइड में दिख रहे लाल और सफेद कलर में घंटी के निशान पर क्लिक कर सब्सक्राइब करें धन्येवाद।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular