नीरज चोपड़ा ने जीता लुसाने डायमंड लीग मीट का खिताब

नीरज चोपड़ा ने लुसाने डायमंड लीग मीट का खिताब अपने नाम कर फिर एक नया इतिहास लिख दिया। 

नीरज चोपड़ा ने शुक्रवार को लुसाने लीग जीतकर डायमंड लीग मीट खिताब जीतने वाले पहले भारतीय के रूप में एक और ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की।

Fill in some text

24 वर्षीय चोपड़ा, जो पिछले महीने विश्व चैंपियनशिप के दौरान रजत जीतने के दौरान "मामूली" कमर की चोट के कारण बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों से हट गए थे, 

उन्होंने अपनी शानदार वापसी कर अपने पहले प्रयास में ही भाला 89.04 मीटर तक फेंका और अपनी जीत पर मुहर लगा दी।  

नीरज चोपड़ा ने एक महीने के लिए खुद को आराम देने के लिए अपने आप को समय दिया था ताकि उनकी चोट से वो उबार सकें।

और जब उन्होने वापसी की तो अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा।  89.04 मीटर थ्रो उनके करियर का तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रयास था।

हरियाणा में पानीपत के पास खंडरा गांव का रहने वाला यह युवा डायमंड लीग का ताज जीतने वाले पहले भारतीय बने।

चोपड़ा ने 7 और 8 सितंबर को ज्यूरिख में डायमंड लीग फाइनल के लिए भी क्वालीफाई किया। 

वह ऐसा करने वाले पहले भारतीय भी बने। उन्होंने बुडापेस्ट, हंगरी में 2023 विश्व चैंपियनशिप के लिए भी 85.20 मीटर क्वालीफाइंग मार्क को तोड़कर क्वालीफाई किया।

चोपड़ा विश्व चैंपियन Grenada's Anderson Peters के बाद प्रतिष्ठित इवेंट के स्टॉकहोम लीग में 89.94 मीटर के राष्ट्रीय रिकॉर्ड थ्रो के साथ दूसरे स्थान पर रहे, जो 90 मीटर के निशान से सिर्फ 6 सेमी कम है, जो भाला फेंक की दुनिया में स्वर्ण मानक है।

नीरज चोपड़ा की इस जीत की जानकारी सभी तक पहुंचे इस लिए इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें।